The Spirit of Ghazals - लफ़्ज़ों का खेल | Urdu & Hindi Poetry, Shayari of Famous Poets

न कोई अपना ग़म है और न अब कोई ख़ुशी अपनी शम्स फ़र्रुख़ाबादी

September 17, 2018 0
तुम्हीं कह दो कि हम कैसे गुज़ारें ज़िंदगी अपनी  और नई शायरी पढ़ें अपनी हिन्दी एवं उर्दू भाषा में हमारे इस ब्लॉगर पर :- The spirit...
Read More

चाँद तारों ने भी जब रख़्त-ए-सफ़र खोला है शम्स फ़र्रुख़ाबादी

September 17, 2018 0
चाँद तारों ने भी जब रख़्त-ए-सफ़र खोला है  और नई शायरी पढ़ें अपनी हिन्दी एवं उर्दू भाषा में हमारे इस ब्लॉगर पर :- The spirit of ghazals-...
Read More

अब तो चलना ही पड़ेगा रास्ता जैसा भी है इफ़्तिख़ार नसीम

September 16, 2018 0
मिशअल-ए-उम्मीद थामो रहनुमा जैसा भी है और नई शायरी पढ़ें अपनी हिन्दी एवं उर्दू भाषा में हमारे इस ब्लॉगर पर :- The spirit of ghazals-लफ़्ज़...
Read More

Pages